तुम ने पुकारा और हम चले आये

तुम ने पुकारा और हम चले आये तुम ने पुकारा और हम चले आये दिल हथेली पर ले आये रे तुम ने पुकारा और हम चले आये जान हथेली पर ले आये रे आओ बैठो हमारे पहलू मे पनाह ले लो मेरी जलती हुयी आखो पेन ये आंखे रख दो…

Continue reading

इस रंग बदलती दुनिया में इंसान की नीयत ठीक नहीं

इस रंग बदलती दुनिया में इंसान की नीयत ठीक नहीं इस रंग बदलती दुनिया में इंसान की नीयत ठीक नहीं निकला न करो तुम सज-धजकर ईमान की नीयत ठीक नहीं ये दिल है बड़ा ही दीवाना छेड़ा न करो इस पागल को तुमसे न शरारत कर बैठे नादान की नीयत…

Continue reading

Dream and truth

I prefer to dream . We can organise the dreams with imagination. Never run behind the truth to hold in grip. It starts to burning pain. Truth is flatly straight and naked. Dream and truth Dreams can dressed well. with cheers and sighs It has affection and love in which every…

Continue reading