हमउम्र

हमउम्र जिन्हे चाहते थे हम कभी नजरे मिलने की मोहलत न थी दिल जलता ही रहता था मगर मिलने के इजाजत न थी आहे की आंधी तबा करती आंसू ओ की नदिया बहती न पता चलता किसीको ये दिल ऐसेही जलाता रहता बदल गया है आज ज़माना ये दिल लब्ज…

Continue reading

मजबूर है सुहानी यादे

मजबूर है सुहानी यादे मजबूर है सुहानी यादे सदा ढूंढते रहते दर्दे इस दुनिया में कोई नहीं जिसका इन बेबस यादो के सिवा लेकर आसुओ का सहारा निगल जाते है गम का दरिया साँसों को भी लगता है गम बिना पतवार लिए हम ये जागते हुवे सपनो फिरसे यादो को…

Continue reading

अप्रतिम लावण्य

अप्रतिम लावण्य अप्रतिम लावण्य भू पर निपजे भाग्य हमारा सच में साजे तन मन से तुम अधिक हो सुन्दर तुम संग जग ये भये मनोहर अलंकृत हो सभी गुणों से तुम लगते चंद्र तारे सारे गुमशुम लकीर नजर की जरा इधर फेर दो तृष्णा मन की सारी बुझा दो बिना…

Continue reading

मराठीचे बोल

मराठीचे बोल मराठीचे बोल, वाणीत गोड, ज्ञान सखोल………………………… अनमोल किती भारतात विस्तृत, सर्वास ती श्रुत, असे मनी दृढ…………………. सर्वां मती भक्तांची माळा, अंतरी जिव्हाळा, महाराष्ट्रात पूजिला………… या भक्त भूमी ज्ञानेशाची मुखी, जन्मली सुखी, अशी हि मराठी………………… सकळा मति ज्ञानेश्वरी गायली, गीतेची सावली, मनी सोवळी……………….. हसे ख़ुशी शिवा असे ठेवा, मराठयांचा…

Continue reading

ह्रदय तेरा कोमल कोमल

ह्रदय तेरा कोमल कोमल ह्रदय तेरा कोमल कोमल विचार उसमे प्रेमळ प्रेमळ निष्कपट ही तू मन में गोरी सौन्दर्य सबसे विभोर विभोर मधुरतम तेरी वाणी गोरी मन भी तेरा मृदल मृदल तन का भी और क्या कहे तुजसां ना कोई विमल फूल प्रेम अपार ही कणव जनसे सिर्फ हमसे विलग…

Continue reading